Road Safety Guidelines


वाहनों के पीछे रेट्रो-रिफ्लैक्टिव/रिफ्लैक्टिव टेप



शहरी सड़कों तथा राजमार्गों दोनों पर स्‍वचालित वाहनों के सरल, सुगम और सुरक्षित प्रचालन के लिए प्रमुख सुरक्षा उपाय के रूप में रेट्रो- रिफ्लैक्टिव/रिफ्लैक्टिव शीटों और टेपों का प्रयोग व्‍यापक स्‍तर पर किया जा रहा है । इन टेपों को चिपकाने से वाहनों में पहले से लगे मौजूदा सुरक्षा उपायों में और मदद मिलती है और यह असावधान वाहनों, पैदल चलने वालों और अन्‍य सड़क प्रयोक्‍ताओं को खतरे से चेतावनी देने के लिए सहायक सुरक्षा प्रदान करने और भारी वाहनों की स्थिति में वाहन की बाहरी सीमा को दर्शाने के लिए साइड मार्कर का कार्य करते हैं ।


यातायात में, दिन की तुलना में रात के समय घातक दुर्घटना दर की सम्‍भावना 3-4 गुना अधिक होती है । अनेक लोगों को यह गलतफहमी है कि रेट्रो-रिफ्लैक्टिव टेप केवल रात के समय ही महत्‍वपूर्ण है । तथापि, विगत हाल के वर्षों में, अधिक राज्‍यों और एजेंसियों ने खराब मौसम जैसे वर्षा और हिमपात के दौराम हैडलाइट के प्रयोग को अनिवार्य कर दिया है । सभी वाहन दुर्घटनाओं में से लगभग 24 प्रतिशत दुर्घटनाएं खराब मौसम परिस्थ्‍िातियों (बारिश,ओलावर्षा, हिमपात तथा धुंध ) के दौरान होती हैं । मौसम संबंधी दुर्घटनाओं में से 47 प्रतिशत दुर्घटनाएं वर्षा के कारण होती है ।


दिन और रात के समय सुदृश्‍यता में वृद्धि करने के लिए चमकीली रंगीन रिफ्लैक्टिव टेप का प्रयोग एक प्रमुख उपाय है । रोड-वे उपयोग के लिए यह टेप आवश्‍यक है ताकि इसे दूर से ही देखा जा सके । इसके लिए प्रिज्‍मेटिक टेप की आवश्‍यकता होती है । वाहनों में रिट्रो-रिफ्लेक्टिव टेपों को लगाने से वाहन, उसमें बैठे लोगों और सड़क पर चलने वाले अन्‍य वाहनों की सुरक्षा को सुनिश्चित करने में मदद मिलती है । इसलिए वाहन में रिट्रो-रिफ्लेक्टिव टेपों को लगाना अनिवार्य है और इस सम्‍बन्‍ध में विस्‍तृत विशेष्‍टताओं को केन्‍द्रीय मोटर वाहन नियम, 1989 के खंड 104 में निर्धारित किया गया है ।


केन्‍द्रीय मोटर वाहन नियम के अनुसार, सभी वाहनों के लिए यह अनिवार्य है उसके पीछे की ओर कम से कम एक लाल रिफ्लैक्‍स रिफ्लैक्‍टर हो । ये नियम 1-4-2009 को या उसके पश्‍चात निर्मित वाहनों को श्रेणीबद्ध करते है और उनमें विभिन्‍न प्रकार के रिट्रो- रिफ्लेक्टिव टेप लगाने का प्रावधान है । वाहनों को सकल वाहन भार के आधार पर श्रेणीबद्ध किया गया है और वाहन के आगे व पीछे भाग में 20 मि0मी0 से अधिक चौड़ाई वाली रिफ्लैक्टिव टेप के लिए विशिष्‍टाएं निर्धारित की गई है ।


दुर्घटनाओं और वाहन के पीछे से होने वाली दुर्घटनाओं को कैसे कम करें

विश्‍वभर में चोटों के कारण होने वाली मौतों का प्रमुख कारण वाहन दुर्घटनाएं हैं । अधिकतर मामलों में, दुर्घटनाओं का कारण एक चालक द्वारा दूसरे चालक, पैदल यात्री, बाइक सवार या मोटर साइकिल सवार को न देख पाना है । चोटों और मौतों की संख्‍या को कम करने के लिए दिन और रात के समय दृश्‍यता में वृद्धि करना अत्‍यन्‍त आवश्‍यक है । सत्‍य है कि रिफ्लैक्टिव टेप उन हीरो में है जिसका कोई गुणगान नहीं करता और जो शांत रूप से लगभग सभी के लिए सुरक्षित वातावरण के निर्माण में सहायक होता है ।

राजमार्गों पर घातक दुर्घटनाएं होती हैं क्‍योंकि वहॉ सडक की साइड पर ट्रक बिना रिफ्लैक्‍टर के पार्क किए जाते हैं । रात के समय भारी वाहनों में रिफ्लैक्‍टर अवश्‍य होने चाहिए तथा उनकी पिछली बत्‍ती स्विच ऑन होनी चाहिए ।


ऐसा नहीं होना चाहिए कि आपके वाणिज्यिक वाहनों में रिट्रो रिफ्लैक्टिव टेप अव्‍यवस्थित रूप से मात्र कहीं भी चिपकी हुई हो । बल्कि इन्‍हें वाहन में ऐसे स्‍थानों पर लगाया जाना चाहिए जहॉ इनका प्रयोग सर्वाधिक प्रभावपूर्ण हो । ये टेपें ट्रेलर की साइडों पर, ट्रेलर के पीछे निचले भाग पर, ट्रेलर के पीछे के ऊपरी भाग पर तथा आपके ट्रेलर के पिछले भाग में लगाई जानी चाहिए ।


आपके ट्रेलर की साइडों पर रिफ्लैक्टिव टेप यथासम्‍भव क्षैतिज अवस्‍था में होना चाहिए और इस टेप का आरम्‍भ और अंत व्‍यवहारिक रूप से यथासम्‍भव ट्रेलर के आगे वाले भाग से पीछे वाले भाग तक होना चाहिए । यह जरूरी नहीं कि टेप निरंतर होना चाहिए, आप इसे समान अंतराल के अनुसार भी लगा सकते हैं । तथापि, आपकी टेप की लंबाई का योग ट्रेलर की लम्‍बाई से लगभग आधा अवश्‍य होना चाहिए ।


ट्रकों के लिए रिफ्लैक्टिव टेप यथासम्‍भव इस प्रकार लगाई जानी चाहिए कि वह मड-फ्जलैप या उनके सपोर्ट ब्रैकेट, या पिछले फेंडरों के किनारो तक आये । टेप ट्रक केबिन की ऊपरी रूपरेखा तक होनी चाहिए, उसी प्रकार जैसा कि ट्रेलर के ऊपरी पिछले भाग में दिखाई देता है ।


Traffic Alerts

साकेत चौराहा (meerut)

साकेत चौराहा पर यातायात सामान्य गति से चल रहा है।


तेजगढी चौराहा (meerut)

तेजगढी चौराहा पर यातायात सामान्य गति से चल रहा है।


Belaisa chooraha se over breez ke pas tak road kharab hone se yatayat ka davab hai (azamgarh)

Belaisa chooraha se over breez ke pas tak road kharab hone se yatayat ka davab hai


Rani ki sarai kasba me road kharab hone se yatayat ka davab hai (azamgarh)

Rani ki sarai kasba me road kharab hone se yatayat ka davab hai


purani sabji mandi chooraha ke pas road kharab hone se yatayat ka davab hai (azamgarh)

purani sabji mandi chooraha ke pas road kharab hone se yatayat ka davab hai